Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Hymn No. 4776 | Date: 27-Jun-1993
जब तेरे दिल में, प्रभु के लिये तो कोई जगह नही
Jaba tērē dila mēṁ, prabhu kē liyē tō kōī jagaha nahī

જીવન માર્ગ, સમજ (Life Approach, Understanding)

Hymn No. 4776 | Date: 27-Jun-1993

जब तेरे दिल में, प्रभु के लिये तो कोई जगह नही

  Audio

jaba tērē dila mēṁ, prabhu kē liyē tō kōī jagaha nahī

જીવન માર્ગ, સમજ (Life Approach, Understanding)

1993-06-27 1993-06-27 https://www.kakabhajans.org/bhajan/default.aspx?id=276 जब तेरे दिल में, प्रभु के लिये तो कोई जगह नही जब तेरे दिल में, प्रभु के लिये तो कोई जगह नही

प्रभु तब आ के बसे, तो कैसे बसे, तेरे दिल में?

प्रभु के लिये, जब आदर नहीं है तो तेरे दिल में

जब तेरे दिल में तो, जुदाई और जुदाई भरी है।

ना कोई भाव भरा है, प्रभु के लिये तो तेरे दिल में

ना कोई प्रेम और चाहत है, प्रभु के लिये तेरे दिल में।

ना कोई दया है, अन्य के लिये तो तेरे दिल में

बैर और क्रोध की ज्वाला, जब जलती है तेरे दिल में।

जब करुणा बहती नही है, किसी के लिये तेरे दिल में

जब माया के पीछे दौड़ रुकी, नही है तेरे दिल में।
https://www.youtube.com/watch?v=yhlImuqFWmk
View Original Increase Font Decrease Font


जब तेरे दिल में, प्रभु के लिये तो कोई जगह नही

प्रभु तब आ के बसे, तो कैसे बसे, तेरे दिल में?

प्रभु के लिये, जब आदर नहीं है तो तेरे दिल में

जब तेरे दिल में तो, जुदाई और जुदाई भरी है।

ना कोई भाव भरा है, प्रभु के लिये तो तेरे दिल में

ना कोई प्रेम और चाहत है, प्रभु के लिये तेरे दिल में।

ना कोई दया है, अन्य के लिये तो तेरे दिल में

बैर और क्रोध की ज्वाला, जब जलती है तेरे दिल में।

जब करुणा बहती नही है, किसी के लिये तेरे दिल में

जब माया के पीछे दौड़ रुकी, नही है तेरे दिल में।




सतगुरू देवेंद्र घिया (काका)
Lyrics in English Increase Font Decrease Font

jaba tērē dila mēṁ, prabhu kē liyē tō kōī jagaha nahī

prabhu taba ā kē basē, tō kaisē basē, tērē dila mēṁ?

prabhu kē liyē, jaba ādara nahīṁ hai tō tērē dila mēṁ

jaba tērē dila mēṁ tō, judāī aura judāī bharī hai।

nā kōī bhāva bharā hai, prabhu kē liyē tō tērē dila mēṁ

nā kōī prēma aura cāhata hai, prabhu kē liyē tērē dila mēṁ।

nā kōī dayā hai, anya kē liyē tō tērē dila mēṁ

baira aura krōdha kī jvālā, jaba jalatī hai tērē dila mēṁ।

jaba karuṇā bahatī nahī hai, kisī kē liyē tērē dila mēṁ

jaba māyā kē pīchē dauḍa़ rukī, nahī hai tērē dila mēṁ।
English Explanation Increase Font Decrease Font


In this hymn, he is telling us to introspect self and start thinking to walk on the spiritual path by removing all wrong thoughts and giving space to the lord in our hearts.

When you do not have any space for the lord

When you do not have any space for the lord,

If lord comes to stay, then how he will stay, in your heart?

For the lord, you do not have any respect, in your heart.

In your heart, only separation and separation filling is there.

You do not have any emotions, filled for the lord in your heart.

You do not have any love or any want, for the lord in your heart.

You do not have gratitude for anyone else in your heart.

Hatred and anger flame, when it is burning in your heart.

When mercy doesn't flows, for anyone in your heart.

When your run for the illusion (worldly affair)has not stopped, in your heart.
Scan Image

Hindi Bhajan no. 4776 by Satguru Devendra Ghia - Kaka
First...477447754776...Last