Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Hymn No. 4857 | Date: 01-Aug-1993
तू हर दिल में तो बसता है, तेरे बिना जगह ना कोई खाली है
Tū hara dila mēṁ tō basatā hai, tērē binā jagaha nā kōī khālī hai

પ્રેમ, ભક્તિ, શિસ્ત, શાંતિ (Love, Worship, Discipline, Peace)

Hymn No. 4857 | Date: 01-Aug-1993

तू हर दिल में तो बसता है, तेरे बिना जगह ना कोई खाली है

  Audio

tū hara dila mēṁ tō basatā hai, tērē binā jagaha nā kōī khālī hai

પ્રેમ, ભક્તિ, શિસ્ત, શાંતિ (Love, Worship, Discipline, Peace)

1993-08-01 1993-08-01 https://www.kakabhajans.org/bhajan/default.aspx?id=357 तू हर दिल में तो बसता है, तेरे बिना जगह ना कोई खाली है तू हर दिल में तो बसता है, तेरे बिना जगह ना कोई खाली है,

बसके सब हृदय में, ऐसा तू क्यों करता है, लगता है, जग में जैसा अँधेर है

सोचे तेरे बारे में जितना हे प्रभु, लगता है, यह फिर भी तो कम है,

मिले प्रेम का निशान तेरा हर जगह से, जब दिल तो साफ होता है।

करे तो जग में क्या करे, और कैसे करे, जब तो तू हर पल साथ में रहता है,

सुख-दुःख की लेन-देन जग में तो होती है, साथ में रहकर पूरी तू करवाता है।

रुक जाएँगे हाथ-पाँव जग में हमारे, मंजूरी जग में तो नहीं होती है,

साथ सदा रहते हुए भी, ना तू दिखाई देता है, दूर तब तो तू लगता है।

सुख-चैन से रहने देना हमें, जब सुख सागर जग में तू कहलाता है,

कहो अब जग में हम क्या करे, जीवन में मिलन तेरा जिससे होता है।
https://www.youtube.com/watch?v=_7pls4isW4A
View Original Increase Font Decrease Font


तू हर दिल में तो बसता है, तेरे बिना जगह ना कोई खाली है,

बसके सब हृदय में, ऐसा तू क्यों करता है, लगता है, जग में जैसा अँधेर है

सोचे तेरे बारे में जितना हे प्रभु, लगता है, यह फिर भी तो कम है,

मिले प्रेम का निशान तेरा हर जगह से, जब दिल तो साफ होता है।

करे तो जग में क्या करे, और कैसे करे, जब तो तू हर पल साथ में रहता है,

सुख-दुःख की लेन-देन जग में तो होती है, साथ में रहकर पूरी तू करवाता है।

रुक जाएँगे हाथ-पाँव जग में हमारे, मंजूरी जग में तो नहीं होती है,

साथ सदा रहते हुए भी, ना तू दिखाई देता है, दूर तब तो तू लगता है।

सुख-चैन से रहने देना हमें, जब सुख सागर जग में तू कहलाता है,

कहो अब जग में हम क्या करे, जीवन में मिलन तेरा जिससे होता है।




सतगुरू देवेंद्र घिया (काका)
Lyrics in English Increase Font Decrease Font

tū hara dila mēṁ tō basatā hai, tērē binā jagaha nā kōī khālī hai,

basakē saba hr̥daya mēṁ, aisā tū kyōṁ karatā hai, lagatā hai, jaga mēṁ jaisā am̐dhēra hai

sōcē tērē bārē mēṁ jitanā hē prabhu, lagatā hai, yaha phira bhī tō kama hai,

milē prēma kā niśāna tērā hara jagaha sē, jaba dila tō sāpha hōtā hai।

karē tō jaga mēṁ kyā karē, aura kaisē karē, jaba tō tū hara pala sātha mēṁ rahatā hai,

sukha-duḥkha kī lēna-dēna jaga mēṁ tō hōtī hai, sātha mēṁ rahakara pūrī tū karavātā hai।

ruka jāēm̐gē hātha-pām̐va jaga mēṁ hamārē, maṁjūrī jaga mēṁ tō nahīṁ hōtī hai,

sātha sadā rahatē huē bhī, nā tū dikhāī dētā hai, dūra taba tō tū lagatā hai।

sukha-caina sē rahanē dēnā hamēṁ, jaba sukha sāgara jaga mēṁ tū kahalātā hai,

kahō aba jaga mēṁ hama kyā karē, jīvana mēṁ milana tērā jisasē hōtā hai।
Scan Image

Hindi Bhajan no. 4857 by Satguru Devendra Ghia - Kaka
First...485548564857...Last