BHAAV SAMADHI VICHAAR SAMADHI KAKA BHAJANS

BHAAV SAMADHI VICHAAR SAMADHI - Hindi BHAJAN

Hymn No. 6366 | Date: 31-Aug-1996
   Text Size Increase Font Decrease Font

जाने अनजाने वही गुनाह में करता रहा

  No Audio

Jane Aanjane Vahi Gunah Main Karta Raha

સ્વયં અનુભૂતિ, આત્મનિરીક્ષણ (Self Realization, Introspection)


1996-08-31 1996-08-31 https://www.kakabhajans.org/bhajan/default.aspx?id=12355 जाने अनजाने वही गुनाह में करता रहा जाने अनजाने वही गुनाह में करता रहा,
आदत की जोर ने तो मुझे, मजबूर बना दिया।
सुबह किया हुआ संकल्प, शाम तक भी ना टिकता,
गिरना, उठना, निस दिन का क्रम बना दिया।
विचारों की आँधियों में पहले से फँस गया
करना पड़ा हर दिन गलतियों का मुझे तो सामना।
ना मैं उसमें बढ़ सका, ना पहाड़ जैसे खड़ा रह सका,
बढ़ती गई कमजोरी, कमजोरियो में, मैं डूबता गया।
देखते हुए भी, अंधा मैं तो बनता ही गया,
इस हाल पर में पहुँच गया, हाल सहन ना कर सका, ना रोक सका।
Hindi Bhajan no. 6366 by Satguru Devendra Ghia - Kaka
जाने अनजाने वही गुनाह में करता रहा,
आदत की जोर ने तो मुझे, मजबूर बना दिया।
सुबह किया हुआ संकल्प, शाम तक भी ना टिकता,
गिरना, उठना, निस दिन का क्रम बना दिया।
विचारों की आँधियों में पहले से फँस गया
करना पड़ा हर दिन गलतियों का मुझे तो सामना।
ना मैं उसमें बढ़ सका, ना पहाड़ जैसे खड़ा रह सका,
बढ़ती गई कमजोरी, कमजोरियो में, मैं डूबता गया।
देखते हुए भी, अंधा मैं तो बनता ही गया,
इस हाल पर में पहुँच गया, हाल सहन ना कर सका, ना रोक सका।
सतगुरू देवेंद्र घिया (काका)

Lyrics in English
jānē anajānē vahī gunāha mēṁ karatā rahā,
ādata kī jōra nē tō mujhē, majabūra banā diyā।
subaha kiyā huā saṁkalpa, śāma taka bhī nā ṭikatā,
giranā, uṭhanā, nisa dina kā krama banā diyā।
vicārōṁ kī ām̐dhiyōṁ mēṁ pahalē sē pham̐sa gayā
karanā paḍa़ā hara dina galatiyōṁ kā mujhē tō sāmanā।
nā maiṁ usamēṁ baḍha़ sakā, nā pahāḍa़ jaisē khaḍa़ā raha sakā,
baḍha़tī gaī kamajōrī, kamajōriyō mēṁ, maiṁ ḍūbatā gayā।
dēkhatē huē bhī, aṁdhā maiṁ tō banatā hī gayā,
isa hāla para mēṁ pahum̐ca gayā, hāla sahana nā kara sakā, nā rōka sakā।

Explanation in English
In this bhajan Shri Devendra Ghia ji (kakaji) is focusing on the effects of habits and weak will power on seeker.
Knowingly, unknowingly, kept on doing the same crime.
The force of habit compelled me.
Resolution (oath) made in the morning, does not last even till evening.
Fall, rise became order of ever day.
Struck in the Strom of thoughts, I had to face mistakes every day.
Neither I could rise in it, nor could I stand like a mountain.
Weakness grew, I drowned in weaknesses.
Even after seeing, I became blind.
Reached such condition, could not bear it nor could stop it.

First...63616362636363646365...Last
Publications
He has written about 10,000 hymns which cover various aspects of spirituality, such as devotion, inner knowledge, truth, meditation, right action and right living. Most of the Bhajans are in Gujarati, but there is also a treasure trove of Bhajans in English, Hindi and Marathi languages.
Pediatric Oncall
Pediatric Oncall
Pediatric Oncall
Pediatric Oncall
Pediatric Oncall