Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Hymn No. 3177 | Date: 30-Apr-1991
देखा तो इस जहाँ में, हर चेहरे पर, तेरा नूर चमकता दिखाई देता है।
Dēkhā tō isa jahām̐ mēṁ, hara cēharē para, tērā nūra camakatā dikhāī dētā hai।

જીવન માર્ગ, સમજ (Life Approach, Understanding)

Hymn No. 3177 | Date: 30-Apr-1991

देखा तो इस जहाँ में, हर चेहरे पर, तेरा नूर चमकता दिखाई देता है।

  Audio

dēkhā tō isa jahām̐ mēṁ, hara cēharē para, tērā nūra camakatā dikhāī dētā hai।

જીવન માર્ગ, સમજ (Life Approach, Understanding)

1991-04-30 1991-04-30 https://www.kakabhajans.org/bhajan/default.aspx?id=14166 देखा तो इस जहाँ में, हर चेहरे पर, तेरा नूर चमकता दिखाई देता है। देखा तो इस जहाँ में, हर चेहरे पर, तेरा नूर चमकता दिखाई देता है।

हर इन्सान के दिल में, कोई न कोई तो तमन्ना दिखाई देती है।

कम इन्सान मिले चेहरे पर जिसकी झलक सत्य की दिखाई देती है।

डूबे हुए हैं खुद में इतने की, खुदाई नहीं दिखाई देती हैं।

हर दिल में धड़कन धडकती है, बोली अलग अलग निकलती है।

सब में तो लहू बहता है, फिर भी रंग सब में लाल ही रहता है।

हर इन्सान तो इन्सान होता है, भाग्य फिर भी अलग रहता है।

तन-बदन चेहरे अलग होते हैं, प्रभु फिर भी एक रहता है।
https://www.youtube.com/watch?v=iWHLCYDxHXc
View Original Increase Font Decrease Font


देखा तो इस जहाँ में, हर चेहरे पर, तेरा नूर चमकता दिखाई देता है।

हर इन्सान के दिल में, कोई न कोई तो तमन्ना दिखाई देती है।

कम इन्सान मिले चेहरे पर जिसकी झलक सत्य की दिखाई देती है।

डूबे हुए हैं खुद में इतने की, खुदाई नहीं दिखाई देती हैं।

हर दिल में धड़कन धडकती है, बोली अलग अलग निकलती है।

सब में तो लहू बहता है, फिर भी रंग सब में लाल ही रहता है।

हर इन्सान तो इन्सान होता है, भाग्य फिर भी अलग रहता है।

तन-बदन चेहरे अलग होते हैं, प्रभु फिर भी एक रहता है।




सतगुरू देवेंद्र घिया (काका)
Lyrics in English Increase Font Decrease Font

dēkhā tō isa jahām̐ mēṁ, hara cēharē para, tērā nūra camakatā dikhāī dētā hai।

hara insāna kē dila mēṁ, kōī na kōī tō tamannā dikhāī dētī hai।

kama insāna milē cēharē para jisakī jhalaka satya kī dikhāī dētī hai।

ḍūbē huē haiṁ khuda mēṁ itanē kī, khudāī nahīṁ dikhāī dētī haiṁ।

hara dila mēṁ dhaḍa़kana dhaḍakatī hai, bōlī alaga alaga nikalatī hai।

saba mēṁ tō lahū bahatā hai, phira bhī raṁga saba mēṁ lāla hī rahatā hai।

hara insāna tō insāna hōtā hai, bhāgya phira bhī alaga rahatā hai।

tana-badana cēharē alaga hōtē haiṁ, prabhu phira bhī ēka rahatā hai।
English Explanation: Increase Font Decrease Font


When I saw in this world, on every face I saw your divine light shining.

In the heart of every human, some or the other desire can be seen.

There are very few people whom I have met on whose face a glimpse of truth can be seen.

They are so much engrossed within themselves that godliness cannot be seen.

In every heart, the heart beats, yet the speech that comes out is different.

In everyone the blood flows, yet the colour of the blood is red in everyone.

Every human being is after all human, yet the destiny is different.

The bodies and facies are different, yet God is only one.
Scan Image

Hindi Bhajan no. 3177 by Satguru Devendra Ghia - Kaka
First...317531763177...Last