BHAAV SAMADHI VICHAAR SAMADHI KAKA BHAJANS

BHAAV SAMADHI VICHAAR SAMADHI - Hindi BHAJAN

Hymn No. 7376 | Date: 22-May-1998
   Text Size Increase Font Decrease Font

बड़ी अचरज की बात है, ना मेरी समझ की तो बात है

  No Audio

Badi Achraj Ki Baat Hai, Na Meri Samaj Ki To Baat Haia

જીવન માર્ગ, સમજ (Life Approach, Understanding)


1998-05-22 1998-05-22 https://www.kakabhajans.org/bhajan/default.aspx?id=15365 बड़ी अचरज की बात है, ना मेरी समझ की तो बात है बड़ी अचरज की बात है, ना मेरी समझ की तो बात है,
रहता तू पास में मेरे, मेरे साथ में, तुझे फिर भी ढूँढ़ना पड़ता है।
समझता हूँ खुद को काबिल, फिर भी मैं तुझ से कम हूँ,
मैं रहता हूँ फिरता, थकावट मेरे पास है, ना वह तेरे पास है।
रहता है तू साथ, ना है तू अलग फिर भी अलग दिखाई देता है
भरा हुआ है प्रेम मेरे दिल में, वह दिलाने वाला तू साक्षात् है।
है संतोष भरा मेरे दिल में, तेरा संतोष तो मेरे साथ है,
कब करे क्या करे ना वह हम कह सके ना मेरे समझ की बात है।
सुख चैन कब तू दे, कब तू ले ले, ना वह मेरे समझ की बात है
दिन पर दिन बीत जाये, रहे बाकी कितने, ना मेरे समझ की बात है।
Hindi Bhajan no. 7376 by Satguru Devendra Ghia - Kaka
बड़ी अचरज की बात है, ना मेरी समझ की तो बात है,
रहता तू पास में मेरे, मेरे साथ में, तुझे फिर भी ढूँढ़ना पड़ता है।
समझता हूँ खुद को काबिल, फिर भी मैं तुझ से कम हूँ,
मैं रहता हूँ फिरता, थकावट मेरे पास है, ना वह तेरे पास है।
रहता है तू साथ, ना है तू अलग फिर भी अलग दिखाई देता है
भरा हुआ है प्रेम मेरे दिल में, वह दिलाने वाला तू साक्षात् है।
है संतोष भरा मेरे दिल में, तेरा संतोष तो मेरे साथ है,
कब करे क्या करे ना वह हम कह सके ना मेरे समझ की बात है।
सुख चैन कब तू दे, कब तू ले ले, ना वह मेरे समझ की बात है
दिन पर दिन बीत जाये, रहे बाकी कितने, ना मेरे समझ की बात है।
सतगुरू देवेंद्र घिया (काका)

Lyrics in English
baḍa़ī acaraja kī bāta hai, nā mērī samajha kī tō bāta hai,
rahatā tū pāsa mēṁ mērē, mērē sātha mēṁ, tujhē phira bhī ḍhūm̐ḍha़nā paḍa़tā hai।
samajhatā hūm̐ khuda kō kābila, phira bhī maiṁ tujha sē kama hūm̐,
maiṁ rahatā hūm̐ phiratā, thakāvaṭa mērē pāsa hai, nā vaha tērē pāsa hai।
rahatā hai tū sātha, nā hai tū alaga phira bhī alaga dikhāī dētā hai
bharā huā hai prēma mērē dila mēṁ, vaha dilānē vālā tū sākṣāt hai।
hai saṁtōṣa bharā mērē dila mēṁ, tērā saṁtōṣa tō mērē sātha hai,
kaba karē kyā karē nā vaha hama kaha sakē nā mērē samajha kī bāta hai।
sukha caina kaba tū dē, kaba tū lē lē, nā vaha mērē samajha kī bāta hai
dina para dina bīta jāyē, rahē bākī kitanē, nā mērē samajha kī bāta hai।




First...73717372737373747375...Last
Publications
He has written about 10,000 hymns which cover various aspects of spirituality, such as devotion, inner knowledge, truth, meditation, right action and right living. Most of the Bhajans are in Gujarati, but there is also a treasure trove of Bhajans in English, Hindi and Marathi languages.
Pediatric Oncall
Pediatric Oncall
Pediatric Oncall
Pediatric Oncall
Pediatric Oncall