Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Hymn No. 7843 | Date: 02-Feb-1999
सदाबहार आप है प्रभु, सदाबहार है आपकी कहानियाँ
Sadābahāra āpa hai prabhu, sadābahāra hai āpakī kahāniyām̐

મન, દિલ, ભાવ, વિચાર, યાદ (Mind, Heart, Feelings, Thoughts, Remembrance)

Hymn No. 7843 | Date: 02-Feb-1999

सदाबहार आप है प्रभु, सदाबहार है आपकी कहानियाँ

  Audio

sadābahāra āpa hai prabhu, sadābahāra hai āpakī kahāniyām̐

મન, દિલ, ભાવ, વિચાર, યાદ (Mind, Heart, Feelings, Thoughts, Remembrance)

1999-02-02 1999-02-02 https://www.kakabhajans.org/bhajan/default.aspx?id=17830 सदाबहार आप है प्रभु, सदाबहार है आपकी कहानियाँ सदाबहार आप है प्रभु, सदाबहार है आपकी कहानियाँ,

हम आये आपके द्वार, आप ना मिले, ऐसा हो ही नही सकता।

ढूँढ़ूँ मैं सब जगह, मिलन ना हुआ, मिलन दुश्वार हो गया,

समझना चाहा आपको प्रभु, समझना, समझ के बाहर हो गया।

दिल ने जब दिल की आवाज सुनी, इस आवाज में आपकी आवाज मिली,

हर आवाज में थी आवाज आपकी, पहचानना मुश्किल हो गया।

यकीन की कसरत करनी पड़ी जीवन में, कहानी जीवन को बना दिया,

हर एक चीज में छिपे रह रह कर, मिलन को मुश्किल बना दिया।
https://www.youtube.com/watch?v=cAfPrRORueI
Increase Font Decrease Font

सदाबहार आप है प्रभु, सदाबहार है आपकी कहानियाँ,

हम आये आपके द्वार, आप ना मिले, ऐसा हो ही नही सकता।

ढूँढ़ूँ मैं सब जगह, मिलन ना हुआ, मिलन दुश्वार हो गया,

समझना चाहा आपको प्रभु, समझना, समझ के बाहर हो गया।

दिल ने जब दिल की आवाज सुनी, इस आवाज में आपकी आवाज मिली,

हर आवाज में थी आवाज आपकी, पहचानना मुश्किल हो गया।

यकीन की कसरत करनी पड़ी जीवन में, कहानी जीवन को बना दिया,

हर एक चीज में छिपे रह रह कर, मिलन को मुश्किल बना दिया।




सतगुरू देवेंद्र घिया (काका)
Increase Font Decrease Font
Lyrics in English
sadābahāra āpa hai prabhu, sadābahāra hai āpakī kahāniyām̐,

hama āyē āpakē dvāra, āpa nā milē, aisā hō hī nahī sakatā।

ḍhūm̐ḍha़ūm̐ maiṁ saba jagaha, milana nā huā, milana duśvāra hō gayā,

samajhanā cāhā āpakō prabhu, samajhanā, samajha kē bāhara hō gayā।

dila nē jaba dila kī āvāja sunī, isa āvāja mēṁ āpakī āvāja milī,

hara āvāja mēṁ thī āvāja āpakī, pahacānanā muśkila hō gayā।

yakīna kī kasarata karanī paḍa़ī jīvana mēṁ, kahānī jīvana kō banā diyā,

hara ēka cīja mēṁ chipē raha raha kara, milana kō muśkila banā diyā।
Hindi Bhajan no. 7843 by Satguru Devendra Ghia - Kaka
First...784078417842...Last