Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Bhaav Samadhi Vichaar Samadhi - Kaka Bhajans
Hymn No. 4790 | Date: 07-Jul-1993
मंद कर दो, मंद कर दो, इच्छाओं के प्रवाह को मंद कर दो
Maṁda kara dō, maṁda kara dō, icchāōṁ kē pravāha kō maṁda kara dō

જીવન માર્ગ, સમજ (Life Approach, Understanding)

Hymn No. 4790 | Date: 07-Jul-1993

मंद कर दो, मंद कर दो, इच्छाओं के प्रवाह को मंद कर दो

  Audio

maṁda kara dō, maṁda kara dō, icchāōṁ kē pravāha kō maṁda kara dō

જીવન માર્ગ, સમજ (Life Approach, Understanding)

1993-07-07 1993-07-07 https://www.kakabhajans.org/bhajan/default.aspx?id=290 मंद कर दो, मंद कर दो, इच्छाओं के प्रवाह को मंद कर दो मंद कर दो, मंद कर दो, इच्छाओं के प्रवाह को मंद कर दो,

बुलंद कर दो, बुलंद कर दो जीवन में, सत्याचरण को बुलंद कर दो।

मंद कर दो, मंद कर दो, दुर्भावों को जीवन में सदा मंद कर दो,

बुलंद कर दो, बुलंद कर दो जीवन में, पुरूषार्थ को बुलंद कर दो।

मंद कर दो, मंद कर दो बैर वृत्ति को, जीवन में मंद कर दो,

बुलंद कर दो, बुलंद कर दो प्रेम प्रवाह को, जीवन में बुलंद कर दो।

मंद कर दो, मंद कर दो जीवन में, काम वासना का प्रवाह, मंद कर दो,

बुलंद कर दो, बुलंद कर दो सद्विचारों को, जीवन में बुलंद कर दो।
https://www.youtube.com/watch?v=7myx7VtqvaU
View Original Increase Font Decrease Font


मंद कर दो, मंद कर दो, इच्छाओं के प्रवाह को मंद कर दो,

बुलंद कर दो, बुलंद कर दो जीवन में, सत्याचरण को बुलंद कर दो।

मंद कर दो, मंद कर दो, दुर्भावों को जीवन में सदा मंद कर दो,

बुलंद कर दो, बुलंद कर दो जीवन में, पुरूषार्थ को बुलंद कर दो।

मंद कर दो, मंद कर दो बैर वृत्ति को, जीवन में मंद कर दो,

बुलंद कर दो, बुलंद कर दो प्रेम प्रवाह को, जीवन में बुलंद कर दो।

मंद कर दो, मंद कर दो जीवन में, काम वासना का प्रवाह, मंद कर दो,

बुलंद कर दो, बुलंद कर दो सद्विचारों को, जीवन में बुलंद कर दो।




सतगुरू देवेंद्र घिया (काका)
Lyrics in English Increase Font Decrease Font

maṁda kara dō, maṁda kara dō, icchāōṁ kē pravāha kō maṁda kara dō,

bulaṁda kara dō, bulaṁda kara dō jīvana mēṁ, satyācaraṇa kō bulaṁda kara dō।

maṁda kara dō, maṁda kara dō, durbhāvōṁ kō jīvana mēṁ sadā maṁda kara dō,

bulaṁda kara dō, bulaṁda kara dō jīvana mēṁ, purūṣārtha kō bulaṁda kara dō।

maṁda kara dō, maṁda kara dō baira vr̥tti kō, jīvana mēṁ maṁda kara dō,

bulaṁda kara dō, bulaṁda kara dō prēma pravāha kō, jīvana mēṁ bulaṁda kara dō।

maṁda kara dō, maṁda kara dō jīvana mēṁ, kāma vāsanā kā pravāha, maṁda kara dō,

bulaṁda kara dō, bulaṁda kara dō sadvicārōṁ kō, jīvana mēṁ bulaṁda kara dō।
English Explanation Increase Font Decrease Font


In this hymn, Kakaji is guiding us on how to control the mind by allowing the good thoughts to influence it and stopping the evil thoughts which will spoil the mind.

Slow down, slow down, slow down the flow of desires.

Raise it up, raise it up in life, raise the truth ( walk on the path of truth).

Slow down, slow down, slow down all the ill effects in life.( the negative thought)

Raise it up, Raise it up in life, raise up the efforts.

Slow down, slow down, slow down the nature of hatred in life.

Raise it up, Raise it up, Raise up the flow of love. (let only love flow in the mind)

Slow down, slow down in life, slow down the flow of lust.

Raise it up, raise it up. Raise the good thoughts in life.
Scan Image

Hindi Bhajan no. 4790 by Satguru Devendra Ghia - Kaka
First...478647874788...Last